प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के तहत जिला स्तरीय कार्यक्रम कल ग्वालियर में



केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के मुख्य आतिथ्य में अटल सभागार में होगा आयोजन 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर 17 सितंबर, 2023 को नई दिल्ली के द्वारका स्थित इंडिया इंटरनेशनल कन्वेंशन एंड एक्सपो सेंटर पर "पीएम विश्वकर्मा" नाम से एक नई योजना का शुभारंभ करेंगे। यहाँ ग्वालियर में जीवाजी विश्वविद्यालय के सभागार में केन्द्रीय मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं प्रदेश के मंत्रिगणों की मौजूदगी में प्रात: 10.30 बजे जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित होगा। 

जिला स्तरीय कार्यक्रम में जिले के प्रभारी एवं जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर, महापौर डॉ. शोभा सतीश सिकरवार, लघु उद्योग निगम की अध्यक्ष श्रीमती इमरती देवी, जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती दुर्गेश कुँवर सिंह जाटव, बीज एवं फॉर्म विकास निगम के अध्यक्ष श्री मुन्नालाल गोयल तथा जिले के विधायकगणों को भी इस कार्यक्रम में बतौर अतिथि आमंत्रित किया गया है। 

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना का उद्देश्य गुरु-शिष्य परंपरा या अपने हाथों और औजारों से काम करने वाले विश्वकर्माओं द्वारा पारंपरिक कौशल के परिवार-आधारित प्रथा को सुदृढ़ बनाना और पोषित करना है। पीएम विश्वकर्मा का मुख्य फोकस कारीगरों और शिल्पकारों के उत्पादों और सेवाओं की पहुंच के साथ-साथ गुणवत्ता में सुधार करना और यह सुनिश्चित करना है कि वे घरेलू और वैश्विक मूल्य श्रृंखलाओं के साथ एकीकृत हों।
 
यह योजना पूरे भारत में ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के कारीगरों और शिल्पकारों को सहायता प्रदान करेगी। पीएम विश्वकर्मा के अंतर्गत अठारह पारंपरिक शिल्पों को शामिल किया जाएगा। इनमें बढ़ई, नौका निर्माता, शस्‍त्रसाज, लोहार, हथौड़ा और टूल किट निर्माता, ताला बनाने वाला, सुनार, कुम्हार, मूर्तिकार, पत्थर तोड़ने वाला, मोची (जूता/जूता कारीगर), राजमिस्त्री, टोकरी/चटाई/झाड़ू निर्माता/कॉयर बुनकर, गुड़िया और खिलौना निर्माता (पारंपरिक), नाई (केश शिल्पी), माला बनाने वाले, धोबी, दर्जी और मछली पकड़ने का जाल बनाने वाले शामिल हैं। 

Post a Comment

0 Comments

JOIN WHATSAPP GROUP

JOIN WHATSAPP GROUP
MORENA UPDATE WHATSAPP GROUP